Jawahar Rozgar Yojana : जवाहर रोजगार योजना क्या है

Jawahar Rozgar Yojana: केंद्र सरकार द्वारा ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में लोगों को रोजगार प्रदान करने के लिए jawahar rozgar yojana शुरू की गई है। इसको जवाहर ग्राम समृद्धि योजना (JGSY) के नाम से भी जाना जाता है। इसकी स्थापना 1 अप्रैल 1999 को ग्रामीण गरीबों के जीवन की बेहतर सुधार लाने के उद्देश्य से अधिक उत्पादक कार्यों की पेशकश के साथ की गई थी। क्योंकि भारत के एक प्रमुख आर्थिक मुद्दे में गरीबी भी शामिल है। इस लेख में हम आपको jawahar rozgar yojana विस्तृत जानकारी दिया हैं इस योजना की अधिक जानकारी के लिए लेख को अंतिम तक पढ़े

Jawahar Rozgar Yojana 2022

जवाहर रोजगार योजन को सातवीं योजना के अंत के बाद एनआरआईपी (राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम) और आरएलईजीपी (ग्रामीण भूमिहीन रोजगार गारंटी कार्यक्रम) में मिला दिया गया था। Jawahar Rozgar Yojana 1 अप्रैल 1989 को शुरू की गई थी। इस योजना में गरीबी रेखा से नीचे के लोगों को प्राथमिकता दी जाती है।

यह Jawahar Rozgar Yojana ग्रामीण और पिछड़े क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को 90 से 100 दिनों के लिए रोजगार उपलब्ध कराने के मुख्य उद्देश्य से शुरू की गई है। यह Jawahar Rozgar Yojana देश का सबसे बड़ा रोजगार सृजन कार्यक्रम है। स्थानीय स्वशासी निकायों को हर ग्रामीण क्षेत्र को Jawahar Rozgar Yojana के लाभार्थी के रूप में शामिल करने की जिम्मेदारी दी गई है।

इस योजना के लिए धन मुख्य रूप से केंद्र सरकार द्वारा प्रदान किया जाता है। इस योजना की 80 प्रतिशत लागत केन्द्र तथा 20 प्रतिशत राज्य सरकार आंशिक रूप से वहन करती है। खर्च की यह राशि योजना की शुरुआत से ही तय की गई है। Jawahar Rozgar Yojana के लिए धन केंद्र सरकार के वार्षिक बजट में प्रदान किया जाता है।

Jawahar Rozgar Yojana 2022: Highlights

योजना का नामजवाहर रोजगार योजना
अन्य नामजेआरएस, जेजीएसवाई, जवाहर ग्राम समृद्धि योजना, संपूर्ण ग्रामीण जवाहर रोजगार योजना
शुरुआत वर्ष2005-06
लाभछोटे किसानों को तकनीकी खेती की जानकारी देना
लाभार्थीBPL कार्डधारक
अधिकारिक वेबसाइटniti.gov.in

Objectives of Jawahar Rozgar Yojana

• jawahar rozgar yojana के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगार और कम रोजगार वाली आबादी को रोजगार प्रदान करना।

• ग्रामीण क्षेत्रों के लाभ के लिए ग्रामीण बुनियादी ढांचे और प्रतिष्ठानों को बढ़ाना।

• बीपीएल परिवारों की ओर झुकाव के उद्देश्य से ओबीसी, एससी / एसटी आदि को वरीयता दी गई।

• रोजगार के अवसरों का लगभग एक तिहाई तक महिलाओं के लिए विशेष आरक्षण।

• पंचायती राज की मदद से हर संभव गांव को कवर करने पर फोकस।

Features of Jawahar Rozgar Yojana

• लक्ष्य समूह गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले व्यक्तियों को जोड़ता है।

• गरीबों में एससी और एसटी को प्राथमिकता दी जाती है।
और लाभार्थियों में 30% महिलाएं हैं।
• टिकाऊ सामुदायिक संपत्ति के निर्माण में परिणामित सभी कार्यों को लिया जा सकता है।

• jawahar rozgar yojana के तहत मजदूरी का भुगतान नकद या खाद्यान्न के रूप में किया जा सकता है।

• कार्य को उच्च प्राथमिकता दी जाती है जिसकी आवश्यकता गरीबी उपशमन कार्यक्रमों के तहत एक रूपरेखा के रूप में होती है।

• सामाजिक वानिकी कार्यों के लिए गैर सरकारी संगठनों की भागीदारी जरूरी है।

Three types of Jawahar Rozgar Yojana

पहले चरण के तहत जनरल फंक्शन को जोड़ा गया था। इसके साथ ही दो उप-योजनाएं इंदिरा आवास योजना और मिलियन वेल्स योजना शुरू की गईं। इस स्ट्रीम के लिए कुल 75% फंडिंग प्रदान की गई थी। इंदिरा आवास योजना का अनुदान 6 प्रतिशत से बढ़ाकर 10 प्रतिशत किया गया। वहीं, मिलियन वेल्स योजना कोष को 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 30 प्रतिशत कर दिया गया।

दूसरी प्रकार के लिए 20 प्रतिशत वित्त पोषण प्रदान किया गया था। यह योजना 120 जिलों में लागू की गई थी।तीसरी धारा में 5% वित्त पोषण प्रदान किया गया था। इसके तहत विकास कार्यक्रम शुरू किए गए। इसमें मजदूरों के पलायन को रोकने, कृषि, सूखा राहत आदि कार्यक्रमों को अपनाया गया। 1 अप्रैल 1999 को jawahar rozgar yojana जवाहर ग्राम समृद्धि योजना में परिलक्षित हुई। 25 सितंबर 2001 को जवाहर ग्राम समृद्धि योजना को पूर्ण ग्रामीण रोजगार योजना में मिला दिया गया।

More Yojana UpdateClick Here

Leave a Comment

error: Content is protected !!