(मौसम आधारित फसल बीमा योजना) Mausam Aadharit Fasal Beema Yojana

WhatsApp Group Join Now

Mausam Aadharit Fasal Beema Yojana: प्रधानमंत्री द्वारा देश के सभी राज्य किसानों के लिए मौसम आधारित फसल बीमा योजना शुरू की गई हैं। इस योजना के माध्यम से किसानों को प्रतिकूल मौसम की स्थिति के कारण फसल के नुकसान से जुड़े वित्तीय जोखिमों को कम करने में मदद करता है। यह बीमा अपर्याप्त या अत्यधिक वर्षा, उच्च या निम्न तापमान, ठंढ और आर्द्रता सहित मौसम संबंधी विभिन्न कारकों से होने वाले नुकसान से किसानों की मदद करने के लिए शुरू किया गया है।

इस योजना के माध्यम से किसानों की मौसम आधारित फसल बीमा किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण साधन है, क्योंकि यह प्रतिकूल मौसम की स्थिति के कारण फसल के नुकसान से जुड़े वित्तीय जोखिमों को कम करने में मदद करता है। यह किसानों की आर्थिक स्थिति में सहायता करता है। इस लेख में हम आपको Mausam Aadharit Fasal Beema Yojana से सम्बन्धित सभी जानकारी देने वाले हैं तो आप इस लेख को पूरा पढ़े।

WhatsApp Group Join Now

मौसम आधारित फसल बीमा योजना की पात्रता

० इस योजना के लिए बटाईदार और किरायेदार किसानों सहित सभी अधिसूचित क्षेत्रों में अधिसूचित फसलों को उगाने वाले किसान कवरेज के लिए पात्र हैं।

० इस योजना के लिए आवेदक किसान बीमित फसलों के लिए किसानों का बीमा होना ज़रूरी है ।

० गैर-ऋणी किसानों को राज्य में प्रचलित भूमि अभिलेखों (रिकॉर्ड्स ऑफ राइट (RoR), भूमि कब्जे प्रमाण पत्र (LPC) आदि) और / या लागू अनुबंध / समझौते के विवरण / अन्य दस्तावेजों को अधिसूचित / अनुमत करने के लिए आवश्यक दस्तावेजी साक्ष्य प्रस्तुत करने होते हैं।

० बटाईदार / किरायेदार किसानों के मामले में और उसी को संबंधित राज्यों द्वारा अधिसूचना में परिभाषित किया जाना चाहिए।

मौसम आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत आने वाली फसलें

मौसम आधारित फसल बीमा विभिन्न प्रकार की फसलों के लिए कवरेज प्रदान करता है, जिनमें शामिल हैं:-

० प्रमुख खाद्य फसलें जैसे अनाज, बाजरा और दालें
० तिलहन
० वाणिज्यिक या बागवानी फसलें

मौसम आधारित फसल बीमा योजना में शामिल खतरे

० वर्षा – अधिक वर्षा, न्यून वर्षा, बेमौसम वर्षा, वर्षा के दिन, शुष्क-काल और शुष्क दिन
० तापमान– उच्च तापमान (गर्मी), कम तापमान, सापेक्षिक आर्द्रता
० हवा की गति
० उपरोक्त मौसम खतरों का एक संयोजन
० ओलावृष्टि, बादल फटना उन किसानों के लिए ऐड-ऑन/इंडेक्स-प्लस उत्पादों के रूप में कवर किया जाएगा जिन्होंने पहले ही डब्ल्यूबीसीआईएस के तहत सामान्य कवरेज ले लिया है।

Latest Govt Yojana UpdateClick Here

Leave a Comment