(PKVY) परम्परागत कृषि विकास योजना 2022: Paramparagat Krishi Vikas Yojana

Paramparagat Krishi Vikas Yojana : भारत सरकार 2015-16 से समर्पित योजना अर्थात् paramparagat krishi vikas yojana के माध्यम से देश में जैविक खेती को बढ़ावा दे रही है। यह योजना जैविक किसानों यानी उत्पादन से लेकर प्रमाणन और विपणन तक को अंत तक समर्थन देने पर जोर देती है। जैविक किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए प्रसंस्करण, पैकिंग, विपणन सहित फसलोत्तर प्रबंधन सहायता को paramparagat krishi vikas yojana का अभिन्न अंग बनाया गया है।

Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2015 में राष्ट्रीय सतत कृषि मिशन (एनएमएसए) के तहत मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन (एसएचएम) योजना के उप-घटक के रूप में शुरू की गई थी। इस paramparagat krishi vikas yojana का उद्देश्य दीर्घकालिक मिट्टी की उर्वरता निर्माण, संसाधन संरक्षण सुनिश्चित करने और जलवायु परिवर्तन के अनुकूलन और शमन में मदद करने के लिए पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक विज्ञान के मिश्रण के माध्यम से जैविक खेती के स्थायी मॉडल का विकास करना है। इस pm krishi vikas yojana मुख्य उद्देश्य मिट्टी की उर्वरता को बढ़ाना है और इस तरह कृषि-रसायनों के उपयोग के बिना जैविक प्रथाओं के माध्यम से स्वस्थ भोजन के उत्पादन में मदद करता है।

Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022: Highlights

योजना का नामपरम्परागत कृषि विकास योजना
किसने आरंभ कीभारत सरकार
लाभार्थीकिसान
उद्देश्यजैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करना।
आधिकारिक वेबसाइटhttps://pgsindia-ncof.gov.in/PKVY/Index.aspx
साल2022
आवेदन का प्रकारऑनलाइन/ऑफलाइन
वित्तीय सहायता₹50000

Objective of Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022

• योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों को जैविक खेती शुरू करने के लिए प्रेरित करना है। उन्हें आर्थिक मदद मिलेगी।

• Paramparagat Krishi Vikas Yojana का एक अन्य उद्देश्य मिट्टी की गुणवत्ता में वृद्धि करना है।

• यह Paramparagat Krishi Vikas Yojana ऐसे खाद्य पदार्थों के उत्पादन की दिशा में काम करती है जो रसायन मुक्त हों और जिनमें उच्च पोषण मूल्य हो। इसलिए यह संभव है क्योंकि कीटनाशकों के कम उपयोग के साथ जैविक खेती की जाती है।

• कुल मिलाकर इस pm krishi vikas yojana का उद्देश्य भारत के नागरिकों के स्वास्थ्य में सुधार लाना है।

• साथ ही इस paramparagat krishi vikas yojana से सरकार कृषि प्रणाली के तहत काम करने वाले विशेषज्ञों को शामिल करने की योजना बना रही है।

Advantages of Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022

• जैविक खेती करने के इच्छुक किसानों के लिए यह एक महत्वपूर्ण प्रेरक कारक है।

• इस paramparagat krishi vikas yojana के तहत किसानों को पूर्ण वित्तीय सहायता मिलेगी।

• योजना की मदद से खेती अधिक टिकाऊ हो जाएगी क्योंकि इसमें आधुनिक तरीकों और पारंपरिक प्रणालियों का मिश्रण है।

• मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने के लिए किसानों के पास पर्याप्त संसाधन होंगे।

• यह योजना क्लस्टर बनाने, अधिक इनपुट प्राप्त करने, क्षमता निर्माण, विपणन और अन्य कार्यों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करेगी जो मूल्य में वृद्धि कर सकते हैं।

• पिछले कुछ वर्षों से यह योजना बिना रसायनों के खेती को विकसित करने में लाभकारी सिद्ध हुई है।

• परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत किसानों को ₹50000 प्रति हेक्टेयर की आर्थिक सहायता मिलेगी। यह लाभ जैविक खेती के लिए तीन साल के लिए है।

• इस राशि से ₹31000 प्रति हेक्टेयर कीटनाशक, जैविक खाद, बीज आदि के लिए है।

• ₹8800 मूल्य जोड़ने और उत्पाद को वितरित करने के लिए है।

• क्लस्टर बनाने के लिए सरकार ₹3000 प्रति हेक्टेयर दे रही है। इसमें प्रशिक्षण, क्षमता निर्माण और विशेषज्ञों के दौरे शामिल हैं।

• डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए किसानों को उनके बैंक में फंड मिलेगा।

• किसान इस फंड का इस्तेमाल ट्रांसपोर्टेशन इंफ्रास्ट्रक्चर, कोल्ड स्टोरेज, प्रोसेसिंग यूनिट आदि के लिए कर सकते हैं।

Features of Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022

• यह paramparagat krishi vikas yojana 2017-18 तक 20 हेक्टेयर (50 एकड़) के 10,000 क्लस्टर बनाने और लगभग दो लाख हेक्टेयर कृषि क्षेत्र को जैविक खेती के तहत लाने का लक्ष्य रखती है।

• इस paramparagat krishi vikas yojana के तहत फंडिंग पैटर्न केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा क्रमशः 60:40 के अनुपात में है।

• उत्तर पूर्वी और हिमालयी राज्यों के मामले में, 90:10 (केंद्र: राज्य) के अनुपात में केंद्रीय सहायता प्रदान की जाती है और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए, सहायता 100% है

Application for Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022

• सबसे पहले आप इसकी आधिकारिक वेबसाइट https://pgsindia-ncof.gov.in/PKVY/index.aspx पर जाना होगा

• आपके सामने कुछ इस तरह से होम पेज खुल कर आ जायेगा।

• इस पोर्टल पर जैविक खेती, इनपुट आपूर्तिकर्ता, प्रमाणन एजेंसी (पीजीएस), और विपणन एजेंसियों में शामिल किसानों का विवरण उत्पादन से सम्बन्धित सुविधा प्राप्त करने के लिए आवेदन कर पाएंगे|

• इस पोर्टल का उपयोग कर किसान PKVY / PGS समूह क्षमता निर्माण, जानकारी, विपणन चैनलों, अन्य समूहों के साथ संचार और संभावित उत्पादकों और उपभोक्ताओं को उनकी उपज का प्रत्यक्ष विपणन का लाभ प्राप्त कर सकते है।

• दिए गए निर्देशों का पालन करे, किसान से सम्बंधित जानकारी को सही – सही भरें

• अब फॉर्म को “सबमिट” कर दें, इस तरह से आवेदन प्रक्रिया पूर्ण हो जाएगी

Homepagenbsslup.in

Leave a Comment

error: Content is protected !!